Anupama 17th May 2023 Written Update – Latest Episode Today

Anupama 17 May Written Update Episode Starts: In the episode of “Anupama” aired on 17th May 2023, Anuj returns and Anupama leaves Gurukul with Bhairavi. Anupama’s heart becomes restless as she anticipates meeting Anuj at Samar’s marriage puja. She remembers that she had forgotten about Anuj while dealing with Malti at Gurukul. Now, she realizes that she has to face Anuj, which makes her tense. Bhairavi supports Anupama through this emotional journey. Meanwhile, the Shah family eagerly waits for Anupama and Anu, but there is no sign of Anuj. Unexpectedly, Kavya arrives, bringing joy to the family.

Anupama 17 May Written Update (2023)

Anupama’s Tension and Bhairavi’s Support:

As Anupama leaves Gurukul with Bhairavi, a sense of tension engulfs her. The thought of encountering Anuj at Samar’s marriage puja at the Shah house lingers in her mind, causing her heart to race. Anupama finds herself unable to shake off the memories of Anuj, whom she had unintentionally pushed aside while dealing with her fears and insecurities regarding Malti at Gurukul. However, as she embarks on this new phase of her life, the realization dawns upon her that she must confront Anuj and face the emotions that lie within.

The weight of this realization amplifies her anxiety, making her apprehensive about what awaits her at the Shah house. Fortunately, Bhairavi, a pillar of strength and unwavering support accompanies Anupama throughout this journey, providing her with the encouragement she needs to face Anuj and whatever may come their way. With Bhairavi by her side, Anupama gains a glimmer of hope that she can navigate through the complexities of her emotions and find solace in the midst of uncertainty.

Kavya’s Surprise Arrival:

The Shah family eagerly waits for Anupama and her daughter Anu to arrive, anticipating the presence of Anuj as well. However, Anuj is nowhere to be seen. Surprisingly, Kavya shows up, leaving the family members surprised. Leela expresses her doubts about Kavya’s arrival, but Kavya explains that she had to come as she had promised Samar and Anupama. Her presence brings joy and happiness to the family.

Anupama’s Restlessness and Anuj’s Arrival:

Anupama’s heart becomes restless as she reaches the Shah house. She longs to see Anuj, but he is not there yet. To calm herself down, she buys a Gajra (flower garland) and fixes it in her hair. She anxiously waits for Anuj’s arrival and finally, her wish comes true. Anuj arrives, and Vanraj thanks Kavya for coming. Kavya shows concern for Vanraj’s health and mentions Leela blaming her for his heart attack. However, Vanraj assures her that she is not the reason behind it. He takes responsibility for the problems in her life and asks if she is happy without him. Kavya reveals that she has taken a break from work and expresses concern about Anupama and Anuj’s meeting.

An Emotional Reunion:

As Anupama walks, she accidentally collides with someone and loses her slipper. To her surprise, Anuj reaches her and helps her wear the slipper, expressing his love for her in his own way. Overwhelmed with joy, Anupama breaks into tears upon seeing him. Vanraj steps outside and finds Anupama with Anuj. Anupama wishes Anuj would say something, but he remains speechless, feeling as though he is meeting her after 26 years. Vanraj secretly wishes for someone to interrupt their emotional moment. Little Anu arrives with Maaya, and Anupama embraces her, realizing that Anu is acting distant. Anupama expresses how much she missed her daughter and asks if Anu missed her too. Anu remains silent and avoids sharing any details. Anupama faces Maaya, and Anu leaves her hand to join Anuj and Maaya. Vanraj meets them, and Anuj asks about his health.

Vanraj taunts Anuj, accusing him of making a wrong choice by leaving a diamond (Anupama) for a stone (Maaya). Anuj defends his choice, while Vanraj worries about Anupama’s well-being. Anupama is seen crying, and the Shah family members don’t seem pleased to meet Anuj. Anuj finds solace in hugging Ankush, sharing his sorrow with him.

Conclusion:

The reunion between Anupama and Anuj brings a mix of emotions, including joy, tension, and worry. Anupama’s long-awaited meeting with Anuj leaves her overwhelmed with tears of happiness, while Vanraj struggles to accept the situation. The episode sets the stage for further emotional twists and turns in the lives of the characters.

Anupama 17 May Written Update Latest Episode in Hindi

अनुपमा 17 मई लिखित अपडेट एपिसोड शुरू: 17 मई 2023 को प्रसारित “अनुपमा” के एपिसोड में, अनुज लौटता है और अनुपमा भैरवी के साथ गुरुकुल छोड़ देती है। अनुपमा का दिल बेचैन हो जाता है क्योंकि वह समर की शादी की पूजा में अनुज से मिलने का अनुमान लगाती है। वह याद करती है कि गुरुकुल में मालती के साथ व्यवहार करते समय वह अनुज के बारे में भूल गई थी। अब, उसे पता चलता है कि उसे अनुज का सामना करना है, जिससे वह तनाव में है। इस भावनात्मक सफर में भैरवी अनुपमा का साथ देती हैं। इस बीच, शाह परिवार अनुपमा और अनु का बेसब्री से इंतजार करता है, लेकिन अनुज का कोई अता पता नहीं है। अप्रत्याशित रूप से, काव्या आती है, परिवार के लिए खुशियाँ लेकर आती है।

अनुपमा की टेंशन और भैरवी का सपोर्ट:

जैसे ही अनुपमा भैरवी के साथ गुरुकुल छोड़ती है, तनाव की भावना उसे घेर लेती है। शाह के घर में समर की शादी की पूजा में अनुज से मिलने का विचार उसके दिमाग में घूम रहा है, जिससे उसका दिल धड़क रहा है। अनुपमा खुद को अनुज की यादों से दूर नहीं रख पा रही है, जिसे उसने गुरुकुल में मालती के बारे में अपने डर और असुरक्षा से निपटने के दौरान अनायास ही एक तरफ धकेल दिया था। हालाँकि, जब वह अपने जीवन के इस नए चरण की शुरुआत करती है, तो उसे यह अहसास होता है कि उसे अनुज का सामना करना चाहिए और उन भावनाओं का सामना करना चाहिए जो भीतर हैं।

इस अहसास का वजन उसकी चिंता को बढ़ाता है, जिससे वह इस बात को लेकर आशंकित हो जाता है कि शाह हाउस में उसका क्या इंतजार है। सौभाग्य से, भैरवी, शक्ति और अटूट समर्थन का एक स्तंभ इस पूरी यात्रा में अनुपमा का साथ देती है, जो उसे अनुज का सामना करने के लिए आवश्यक प्रोत्साहन प्रदान करती है और जो कुछ भी उनके रास्ते में आ सकता है। भैरवी के साथ, अनुपमा को आशा की एक किरण मिलती है कि वह अपनी भावनाओं की जटिलताओं के माध्यम से नेविगेट कर सकती है और अनिश्चितता के बीच सांत्वना पा सकती है।

काव्या का आश्चर्यजनक आगमन:

शाह परिवार अनुपमा और उनकी बेटी अनु के आने का बेसब्री से इंतजार करता है, साथ ही अनुज की उपस्थिति का भी अनुमान लगाता है। हालांकि, अनुज कहीं नजर नहीं आ रहा है। हैरानी की बात यह है कि काव्या आती है, जिससे घरवाले हैरान रह जाते हैं। लीला काव्या के आने के बारे में अपनी शंका व्यक्त करती है, लेकिन काव्या बताती है कि उसे आना पड़ा क्योंकि उसने समर और अनुपमा से वादा किया था। उसकी उपस्थिति परिवार में खुशी और खुशी लाती है।

अनुपमा की बेचैनी और अनुज का आगमन:

शाह हाउस पहुंचते ही अनुपमा का दिल बेचैन हो जाता है। वह अनुज को देखने के लिए तरसती है, लेकिन वह अभी तक वहां नहीं है। खुद को शांत करने के लिए, वह एक गजरा (फूलों की माला) खरीदती है और उसे अपने बालों में लगाती है। वह उत्सुकता से अनुज के आने का इंतजार करती है और आखिरकार उसकी इच्छा पूरी हो जाती है। अनुज आता है, और वनराज आने के लिए काव्या को धन्यवाद देता है। काव्या वनराज के स्वास्थ्य के लिए चिंता दिखाती है और लीला को उसके दिल के दौरे के लिए जिम्मेदार ठहराती है। हालांकि, वनराज उसे विश्वास दिलाता है कि वह इसके पीछे का कारण नहीं है। वह उसके जीवन की समस्याओं की जिम्मेदारी लेता है और पूछता है कि क्या वह उसके बिना खुश है। काव्या ने खुलासा किया कि उसने काम से छुट्टी ले ली है और अनुपमा और अनुज की मुलाकात के बारे में चिंता व्यक्त करती है।

एक भावनात्मक पुनर्मिलन:

जैसे ही अनुपमा चलती है, वह गलती से किसी से टकरा जाती है और अपनी चप्पल खो देती है। उसके आश्चर्य करने के लिए, अनुज उसके पास पहुँचता है और अपने तरीके से उसके प्रति अपने प्यार का इजहार करते हुए उसे चप्पल पहनने में मदद करता है। खुशी से अभिभूत, अनुपमा उसे देखकर फूट-फूट कर रो पड़ी। वनराज बाहर कदम रखता है और अनुपमा को अनुज के साथ पाता है। अनुपमा चाहती है कि अनुज कुछ कहे, लेकिन वह अवाक रहता है, ऐसा महसूस करता है कि वह उससे 26 साल बाद मिल रहा है। वनराज चुपके से चाहता है कि कोई उनके भावनात्मक क्षण को बाधित करे। छोटी अनु माया के साथ आती है, और अनुपमा उसे गले लगा लेती है, यह महसूस करते हुए कि अनु दूर का अभिनय कर रही है। अनुपमा व्यक्त करती है कि उसने अपनी बेटी को कितना याद किया और पूछती है कि क्या अनु भी उसे याद करती है। अनु चुप रहती है और कोई भी विवरण साझा करने से बचती है। अनुपमा माया का सामना करती है, और अनु अनुज और माया में शामिल होने के लिए अपना हाथ छोड़ देती है। वनराज उनसे मिलता है, और अनुज उसके स्वास्थ्य के बारे में पूछता है।

वनराज ने अनुज पर एक पत्थर (माया) के लिए हीरा (अनुपमा) को छोड़कर गलत चुनाव करने का आरोप लगाते हुए उसे ताना मारा। अनुज अपनी पसंद का बचाव करता है, जबकि वनराज अनुपमा की सलामती की चिंता करता है। अनुपमा रोती नजर आ रही हैं और शाह परिवार अनुज से मिलकर खुश नहीं दिख रहे हैं। अनुज को अंकुश को गले लगाने, उसके साथ अपना दुख साझा करने में सांत्वना मिलती है।

निष्कर्ष:

अनुपमा और अनुज के बीच पुनर्मिलन खुशी, तनाव और चिंता सहित भावनाओं का मिश्रण लाता है। अनुज के साथ अनुपमा की लंबे समय से प्रतीक्षित मुलाकात उसे खुशी के आंसुओं से भर देती है, जबकि वनराज स्थिति को स्वीकार करने के लिए संघर्ष करता है। यह एपिसोड पात्रों के जीवन में और भावनात्मक मोड़ और मोड़ के लिए मंच तैयार करता है।

Leave a Comment